translation missing: en.general.search.loading
Insta Publishing | Book Details

Category : Non-Fiction

Meri Kalam

Rs. 230

SKU : IP220051

Pages : 357

Available Now: Yes

  • Book Name: Hamari Suman
  • Author Name: Jaya Mishra(JHA)
  • ISBN Code: 978-93-90719-70-9
  • Publish Date: 2022-03-05

यह पुस्तक , सिर्फ पुस्तक नहीं बल्कि घटित जीवन है ,जिसमें हमारी सुमन के जीवन के उलझे रेशमी धागो को हमारी मां सवारती रही है ।जो सुनने में साधारण प्रतीत होने के बावजूद असाधारण है ।सामान्य होते हुए भी और असमान्य है ।ठीक काले कोयला के जैसा जिसमें सबसे चमकीला एवं बहुमूल्य रत्न हीरा छिपा होता है।

मैं कोई लेखिका नहीं हूं ,अपने जीवन के आधे से अधिक उम्र गुजर जाने तक के सफर में अब तक मैंने शिक्षा जगत के क्षेत्र में अपने विद्यार्थियों को अंग्रेजों की भाषा अंग्रेजी पढ़ाने के साथ-साथ जब जब मौका मिला इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बतौर एंकर काम की हूं। जैसे ईटीवी बिहार झारखंड में कैंपस कार्यक्रम /झारखंड टीवी में मोहल्ले से/ news11 में बिंदास बोल/ रांची दूरदर्शन में स्वस्थ भारत. संताल डायरी और अलग-अलग कार्यक्रम में मंच संचालन करते आई हूँ। लिखने की ना काबिलियत थी और ना ही लिखने का कभी शौक जागा लेकिन जब एक दिन हमारे परिवार ने हमारी सुमन को नींद से जगाने की लाख कोशिश की परंतु हमारी सुमन नहीं जागी। फिर मां के निर्देश पर मेरे हाथ ने कलम को पकड़ लिया परंतु मेरी कलम पर मेरा पकड़ बिल्कुल भी नहीं था ,वह तो आजाद पंछी के जैसे उड़ती चली गई ।यकीन मानिए जब मैंने अपनी कलम की कहानी पढ़ी तो मुझे अपने बचे हुए जीवन को जीने का मूल मंत्र समझ में आ गया। मुझे पूरी उम्मीद है अगर आप मेरी कलम की यादों को पढ़ेंगे तो यकीनन एक दिन आपकी कलम भी साधारण जीवन की कहानी लिखते लिखते असाधारण पुस्तक का रूप लेकर पूरे ब्रह्मांड को मार्गदर्शित कर सकती है।

Write a review






We would love to speak to you before getting started.