translation missing: en.general.search.loading
Insta Publishing | Book Details

Category : Fiction

Rs. 399

SKU : BOOK20IP0090

Pages : 342

Available Now: Yes

  • Book Name: Rx-Zindagi
  • Author Name: Avinash Pandey
  • ISBN Code: 978-93-90468-99-7
  • Publish Date: 2021-03-22

आभार और कुछ बातें दिल से प्रिय पाठकों और मेरे दोस्तों, ‘Rx ज़िन्दगी’ को चुनने के लिए आपका शुक्रिया। इस किताब को लिखने के पीछे मेरा कुछ मकसद था- मैं जिन्दगी के उलझनों मे उलझे उन सारे लोगो से बातें करना चाहता था। युवा, जिनके पास हजारों सवालें हैं मगर जबाब उन्हे मिल नहीं पाता, मैं इस किताब के माध्यम से उनसे बातें करना चाहता था- उनके सवालों का जबाब देना चाहता था और उनके अंदर बैठे डर और भ्रम को निकाल-बाहर करना चाहता था। कितना कामयाब रहा, यह आपकी प्रतिकृया से ही पता चल पाएगा। मै प्रायः आत्मसुधार एवं मोटिवेशन पर लिखता हूँ और इसी के लिए थोड़ा-बहुत लोग जानते भी हैं। मोटीवेशनल बाते करना भी पसंद हैं और मोटीवेशनल सेमिनार मे एक दिन बोलते-युवाओं को ट्रेनिंग देते अचानक एक ख्याल आया था कि क्या मैं ट्रेनिंग वाली प्रभाव लिख कर व्यक्त कर सकता हूँ? क्या यह असरदार होगा? क्या रियल की तरह वर्चुअल प्रभाव भी होगा? बस मेरें दिमाग मे उस दिन से ब्लूप्रिंट बनने शुरू हो चुके थे। आत्मविश्वास के लिए इसे पढ़ा कर लोगो से समर्थन भी मांगा और मै कामयाब रहा। ट्रेनिंग देते कई बार यह महसूस किया था कि नई बातें-नए विचार मुश्किल से हीं स्वीकार होते हैं, बने-बनाये आरामदायक स्थिति मे दखलअंदाजी मन को बर्दाश्त नहीं होता और वो तरकीबे लगा-लगा कर भागना चाहता हैं। लगातार इनपर बोला भी नहीं जा सकता, सुननें वालों को नींद आने लगती हैं। लेकिन बोलना तो हैं, कैसे भी कहना हैं क्योकि यह वहीं चिजें होती हैं जो सफल बनाता हैं, जीना सिखाता हैं और सर ऊंचा कर चलना भी सिखाता हैं- मेरा हर छात्र मन के अपने आरामदायक स्थिति से बाहर निकलने के बाद यही बोलता- “मुझे पहले ही इसे सीखनी चाहिए था।” मुझे भी प्रयोग करना था- कहानी और आत्मसुधार साथ-साथ चलना चाहिए, बिना एक दूसरे की सीमाओं को लांघे। मैंने प्रयोग किया हैं कि जैसे ही आत्मसुधार बोर करने लगे तुरंत कोई खट्टी-मिट्ठी-नमकीन वाली मिक्सचर चख लिया जाए। मैं यह घोषणा कर सकता हूँ कि इस कहानी के पात्र काल्पनिक हैं -परंतु क्या यह पूर्ण सत्य होगा? मेरे ख्याल से कोई भी कहानी पूर्ण काल्पनिक नहीं होती हैं।

मेरे बारे मे ------------------- अविनाश पाण्डेय मोबाइल नंबर- 9973313632 email – vyapaarguru@gmail॰com Facebook/ twitter – avinash_y2kguy@yahoo.com गृह जिला गोपालगंज के महम्मदपुर चौक पर स्थायी निवास। काम के सिलसिले मे मुजफ्फरपुर मे विगत 10 वर्षो से पत्नी और बेटा-बेटी के साथ रहते आ रहे है। मैट्रिक और इंटरमेडियट बिहार बोर्ड से करने के बाद आगे की पढ़ाई भोपाल से की। भोपाल से BBA, MBA करने के बाद स्थायी रोजगार की तलाश शुरू हुई मगर कुछ स्थायी हो नहीं पाया। एक बिज़नस पत्रिका मे बतौर संपादक. क्लिनिकल साइक्लोजिस्ट, लाइफ इम्प्रोवेमेंट ट्रेनर, बिज़नस इम्प्रोवेंट ट्रेनर, एडुकेशनल ट्रेनर और मोटीवेशनल स्पीकर के रूप मे पहचान ल युवाओ की काउन्सेलिंग करता हूँ, व्यापारिक प्रतिष्ठानो मे सेल्स ट्रेनिंग देता हूँ, युवाओ के लिए कॉलेज मे, कोचिंग इंस्टीट्यूट मे सेमिनार आयोजित करता हूँ, स्टूडेंट्स को गोल सेट करना तथा उसे पाने के तरीके सिखाता हूँ, उन्हे जीतने के लिए प्रेरित करता हूँ, उनके EQ का विकाश कराते हुये उन्हे एक नया नज़रिया प्रदान करता हूँ। शिक्षा के क्षेत्र मे खास दिलचस्पी होने से मै प्राइवेट स्कूल के टीचरस को भी चाइल्ड साइकॉलजी, एडुकेशन साइकॉलजी, एडुकेशन टैक्नीक आदि सिखाने के लिए कार्यशाला आयोजित करता हूँ। मानव मन एवं नेगोसीएसन कला आदि मे खास दिलचस्पी। शिक्षा के नए तरीके सीखने और सीखने को सदैव तत्पर।

Write a review






We would love to speak to you before getting started.